Tags » Rahul Gandhi

ओल्ड गार्ड वर्सेज़ न्यू गार्ड की मंझधार में रविवार को राहुल की री-लॉंचिग

मार्केटिंग के इस तेज दौर में एक के बाद एक गलत रणनीति और अपने ही नेताओं द्वारा की गई गलत ब्रांडिग का खामियाजा भुगत रहे राहुल गॉंधी अब अपनी वापसी की तैयारी को लेकर खुद असमंजस में हैं, और कॉंग्रेस इस असमंजस की खाई में धंसती जा रही है…रहस्य दरअसल गॉंधी परिवार की पुरानी तरकीब रही है, नेहरू – इंदिरा से लेकर राजीव गॉंधी तक का विपश्यन में जाना और उसको बाद सोनिया का इलाज कराने अमेरिका जाना सब रहस्य से भरा है और अब, राहुल का 56 दिनों का अज्ञातवास… हालांकी आज के भयंकर मेगापिक्सल के तेज कैमरों की मौजूदगी वाले दौर में किसी का भी अज्ञातवास में रहना असंभव दिखाई पड़ता है पर ऐसे में भी राहुल की 56 दिनों में एक तस्वीर तक भी कोई नहीं जुटा पाया और अब पांडवों की तरह अज्ञातवास से लौटे राहुल भी पांडवों की तरह अपने राज्य की ओर नजर लगाये हैं। वैसे राजनीति नजर और दिमाग की उपज से चलती है और इस बार राहुल क्या सोच और रणनीति बनाकर वापसी करेंगे, ये भी एक रहस्य है।

पर सवाल यही है कि अगर राहुल वापसी करते हैं भी तो आखिर किस रणनीति के तहत् काम करेंगे? क्योंकि जिस तरह कॉंग्रेस के जयपुर अधिवेशन में उन्होंने सत्ता को जहर कहा था, लोगों के दिमाग में यह बात घर कर गई है कि कहीं राहुल राजनीति में बेमन से तो नहीं आए हैं और इससे खुद कॉंग्रेस के कई नेता भी परेशान हैं क्यूंकि इस अज्ञातवास के पीछे खबरें यह भी हैं कि राहुल कांग्रेस अध्यक्ष से नाराज हैं, और वो पार्टी में अपने तरीके से बदलाव करना चाहते हैं, मगर सोनिया के करीबी ऐसा नहीं होने देना चाहते। तो अब राहुल के करीबियों का क्या होगा, ध्यान में 2009 का लोकसभा का चुनाव भी आता है जिसमें राहुल का प्रदर्शन अब से बेहतर था, हालांकि आज राहुल की इस हालत के जिम्मेदार उन्हीं के करीबी नेता हैं, इसी दौरान कॉंग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेताओं के बयान आने लगे कि सोनिया गांधी ही पार्टी का नेतृत्व करें। इसमें हंसराज भारद्वाज, शीला दीक्षित जैसे लोग थे। पार्टी में कई नेता राहुल के नेतृत्व को लेकर मन नहीं बना पा रहे हैं और कई उनके समर्थन में हैं तो राहुल की पहली जिम्मेदारी ओल्ड गार्ड वर्सेज़ न्यू गार्ड की आवाज का सामंजस्य बनाना है और इसमें अपनी उम्र से बड़े और छोटे नेताओं के बीच तालमेल बिठाना है अभी राहुल इसी में झूल रहे हैं। बहरहाल, राहुल का रुख रविवार को दिल्ली में होने वाली किसान रैली में पता चलेगा, यह भी कहा जा रहा है कि राहुल इसके बाद देश भ्रमण पर भी निकलेंगे, ताकि लोगों के बीच जाकर बात कर सकें।

इसके बाद  वो पहला चुनाव जिस पर राहुल गॉंधी को एक बार फिर आंका जाएगा, वह होगा बिहार विधानसभा का चुनाव। आने वाले बिहार विधानसभा चुनाव के लिए जनता परिवार एकजुट हो चुका है। इसे वक्त का फेर ही माना जाएगा कि पहले जनता परिवार कांग्रेस से लड़ने के लिए बना था, जिसके लिए उसने  बीजेपी का भी साथ दिया। अब वह बीजेपी से लड़ने के लिए कांग्रेस के साथ जाना चाहता है। इन सब राजनैतिक परिवर्तनों के खेल में कांग्रेस का बिहार में क्या रुख होगा, यह भी राहुल ही तय करेंगे। कांग्रेस कार्यकत्ता बड़ी उम्मीद से बैठे हैं कि राहुल की इस लंबी छुट्टी ने शायद उन्हें कुछ ऐसा सिखाया होगा जिससे पार्टी की डूबती नैया पार लग जाए और राहुल की री-लॉंचिग के साथ साथ कॉंग्रेस की भी री-लॉंचिग होगी।

Bihar Election

Hugplomacy: Rahul asks PM Modi to hug farmers too

open view web desk

New Delhi January 22: Congress president Rahul Gandhi on Monday asked Prime Minister Narendra Modi to not only hug world leaders, but also India’s farmers and soldiers. 154 more words

National

Modi hugs only privileged people, not farmers, jawans: Rahul

open view web desk

New Delhi, Jan 22: Congress President Rahul Gandhi today alleged that Prime Minister Narendra Modi embraces only privileged people and not farmers, labourers or jawans. 96 more words

National

The more Rahul Gandhi grows, the more democracy develops

The creative Rahul Gandhi challenging fortress Modi and Shah whets the appetite of the political imagination

The Gujarat elections can facetiously invoke Charles Dickens’s famous quote about it being the best of times and the worst of times. 855 more words

Modi

Ahead of 2019, the rumblings of democracy see a storm in a tea cup

RAGHAV DUGGAL

Lucknow /New Delhi: In the race for 7 RCR, India is slowly but surely gearing up for a powerpacked general election in a year from now.  1,061 more words

Rahul tweets 'ideas' for PM Modi's Mann Ki Baat

open view web desk

New Delhi , Jan. 19: Congress President Rahul Gandhi asked Prime Minister Narendra Modi how he plans to address issues like jobs, rising rape cases in Haryana, and Doklam in Mann Ki Baat. 181 more words

National

RSS defamation case: Court orders Rahul to appear on April 23

open view web desk

Bhiwandi (Maharashtra) , Jan 17 (ANI): A Bhiwandi Court on Wednesday ordered Congress president Rahul Gandhi to be present in court on April 23, for framing of charges against him in a defamation case for saying “RSS people killed Gandhi”. 110 more words

National