Tags » Railway

Preparing for the 'Beccles' Open Day

My layout, ‘First’, will be appearing at the Norfolk and Suffolk Narrow Gauge Modellers Open Day in Beccles on Saturday 4th of March. Full details of the Open Day: … 74 more words

Narrow Gauge

Mengintip Mega Proyek di Bawah Tanah Jakarta

Macet. Itulah satu kata yang begitu melekat dengan kondisi Jakarta beberapa dekade kebelakang. Bertambahnya jumlah kendaraan yang tidak diimbangi dengan pertumbuhan jalan, menyebabkan lalu lintas ibukota kian hari kian sesak. 659 more words

Catatan Harian

Union Station

One of the places we went as a class while studying with Sam Abell last weekend was the train station in Los Angeles.

It is a remarkable building with many beautiful details and on a quiet day I expect I would be in my element there, taking photos of a lot of architectural details. 250 more words

Photography

Good, bad or ugly?

A letter from the October 2011 British Railway Modelling….

No room for graffiti

One of the many reasons I have for subscribing to BRM is that you not only inspire and inform but give food for thought in an adult, mature, manner. 

552 more words
Inspiration

समय, वर्ग, वर्ण और मैं

समय के साथ साथ समाज भी बदलता गया है मेरे लिये। स्कूली शिक्षा, और उसके बाद विश्वविद्यालयीय शिक्षा में मेरे लिये न कोई वर्ण था, न वर्ग। स्त्री और पुरुष का भी भेद न था – कक्षा में स्त्रियां लगभग थी ही नहीं। मित्रों में हिन्दू, मुसलमान सब थे। पिलानी में गुजराती, मराठी, मदरासी सभी थे। पोस्ट आफिस के डाकिये – महेश जी की हम अपने ताऊजी की तरह इज्जत करते थे। उनके साथ चाय पीते थे। वह शायद सामाजिकता का गोल्डन पीरियड था।

नौकरी, और सरकारी नौकरी में क्लास से बहुत तगड़ा परिचय हुआ। ग्रुप ए, बी, सी, डी में बंट गयी दुनियां। ग्रुप ए में होने के कारण हम अंगरेजों के उत्तराधिकारी थे। शेष सब के लिये डेमी-गॉड सरीखे। शुरु में यही सिखाया गया।

रेलवे में क्लास कॉंशियसनेस काफी है। शायद मिलिटरी में भी है। इस कॉंशियसनेस को दूर करने का बहुत प्रयास किया मैने अपने में। पर क्लास का अन्तर बना रहा, रेल सेवा के अन्त तक।

मुझे याद है कि भटनी में रनिंग रूम का इन्स्पेक्शन करते समय इतनी बढिया सफ़ाई दिखी थी कि मैने सफ़ाई वाले को गले लगा लिया था। वह अचकचा गया था। मुझे यह भी याद है कि पूरी नौकरी के दौरान मैने किसी अन्य ग्रुप ए अधिकारी को ऐसा करते नहीं देखा। फिर भी, गांधीजी के सत्य के प्रयोग की तर्ज पर यह जरूर स्वीकार करूंगा कि क्लास का वर्गीकरण मेरे पर्सोना में जो आया, सो मिट नहीं पाया। अब वह चला गया है, नौकरी के साथ साथ।

नौकरी के बाद रिटायर होने पर क्लास तो नहीं, वर्ण/कास्ट सशक्त तरीके से दिखने लगा है अपने परिवेश में। गांव में आने पर; उत्तर प्रदेश के सामन्ती अतीत की बदौलत; आसपास जातिगत विभाजन जबरदस्त दिखता है।

मेरा घर गांव के बभनान से अलग जगह पर है। मुझे बताया गया कि गांवों में सवर्णों की बस्ती के (सामान्यत:) दक्षिण में चमरौटी होती है। मेरा घर सवर्णों की बस्ती से दक्षिण-पूर्व में है। मेरे घर के पश्चिम में चमरौटी है, उत्तर में पासी और दक्षिण में बिन्द (केवट) रहते हैं। इन सभी के सोशल ट्रेट्स/करेक्टरस्टिक्स में बड़ा अन्तर है। पहले पहल मैं उन्हे उन ट्रेट्स के आधार पर देखने के नजरिये को अनदेखा करता था। इन सभी बस्तियों में घूमा। घर घर जा कर लोगों के मिला। मुझे लगा कि ऐसा कर मैं उनके साथ समांग (होमोजीनियस) बन जाऊंगा। पर वैसा हुआ नहीं। अभी भी मैं अपने लिये समाज में अपने को-ऑर्डिनेट्स तलाश रहा हूं।

गांव में क्लास खत्म हो गया, पर उसका स्थान कास्ट ने बहुत तेजी से ले लिया। मैं क्लास-व्यवस्था में असहज था। कुछ कुछ मिसफ़िट। अब कास्ट-व्यवस्था में भी असहज हूं। बहुत हद तक मिसफिट। देखता हूं कि कास्ट/वर्ण मुझे लील लेता है या मैं उसका सहजीकरण कर पाता हूं।

यह भी सम्भव है कि निस्पृह बन जाऊं अन्तत:।  … रमानाथ अवस्थी की पक्तियां याद आती हैं – भीड़ में भी रहता हूं वीराने के सहारे, जैसे कोई मन्दिर किसी गांव के किनारे।

Surroundings

Plan your next trip to Scotland!

Looking to plan a trip to Scotland? Well, you’re in the right place.Visit Scotland Trip Planner You can save ideas from across our website to your trip list and add travel information. 42 more words

Perthshire

Rocky Mountaineer: Day 2 Kamloops-Banff

As we pulled out of Kamloops on Day 2, we climbed into the high country, into even more spectacular scenery. We passed lakes and snow-capped mountains, as we climbed ever higher, watching all the time for wildlife. 191 more words

Landscape