Tags » Railway

Railways' 'Mission 41K' to save energy worth Rs 41,000 cr

Latest News -Union Railway Minister Suresh Prabhu today unveiled ‘Mission 41K’ to save Rs 41,000 crore on the Indian Railways’ expenditure on energy consumption over the next 10 years. 66 more words

Transwoman Won Legal Battle Against West Bengal Public Service Commission

Atri Kar, a transgender woman, has fought and won a legal battle against the West Bengal Public Service Commission for incorporating the third gender beyond the binary in the application form for examination. 137 more words

Accidentally via Oxford

While walking to the railway station this afternoon I took a look at tickets the machine at the station printed out, and noticed the overall journey ticket wasn’t for a specific service – I could use it throughout the day. 460 more words

Life

China has built the world’s largest bullet-train network | The Economist

“THESE are fields of hope,” says Gu Zhen’an, gesturing at a barren scene. A burly chain-smoker, he spent 25 years overseeing road-building crews in central China. 1,471 more words

China Alert

फाटक नंबर 248 - आधी रात दुल्हन के जोड़े में घूमती है यहां भूतनी ....

आज हम आपको बता रहें हैं दिल्ली और मुबंई के ऐसे फाटक के बारे में बता रहें हैं जहां पर रात होते ही भूतों की धमाचौकड़ी शुरू हो जाती है। इन भूतों की धमाचौकड़ी के कारण यहां के कर्मचारी भी रेलवे से नौकरी छोड़ने तक को तैयार हो गए है।

रेलवे के कई ऐसे फाटक है जिनमें भूतों की कई घटनाओं के होने की चर्चा होती रहती है। लेकिन आज हम इन रेलवे फाटकों में से दिल्ली मुंबई रेलवे लाइन पर स्थित फाटक नंबर 248 की बात कर रहे हैं। इस रेलवे फाटक में रात होते ही अजीबों गरीब हरकतें होने लगती है। इस फाटक में काम करने वाले कर्मचारियों को रात होते ही यहां पर कभी पायल की आवाजें आती है तो कभी किसी बच्चें के तेज रोने की आवाज सुनाई देती है। इसके अलावा कर्मचारियों को यह भी महसूस होता है कि किसी ने उनके हाथों और पैरों को बांध दिया है। कभी कोई गेट खटखटाने लगता है। इस बात की गांव वाले भी पुष्टि करते है। यहां पर 15 दिन पूर्व ही एक हादसा हुआ था। जिसके बाद से ही इन भूतों के धमाचौकड़ी शुरू हो गई हैं। अभी यहां पर काम करने वाले कर्मचारी भूतों के भय से अपनी जान बचाने के लिए रेलवे विभाग को अपना ट्रांसफर करने के लिए अर्जी लिख चुके हैं। साथ ही वह ऐसा न होने पर नौकरी छोड़ने तक के लिए तैयार हो गए है।

देशराग