Tags » Rain

मेरी साँसों पर मेघ उतरने लगे हैं,
आकाश पलकों पर झुक आया है,
क्षितिज मेरी भुजाओं में टकराता है,
आज रात वर्षा होगी।
कहाँ हो तुम?

मैंने शीशे का एक बहुत बड़ा एक्वेरियम
बादलों के ऊपर आकाश में बनाया है,
जिसमें रंग-बिरंगी असंख्य मछलियाँ डाल दी हैं,
सारा सागर भर दिया है।
आज रात वह एक्वेरियम टूटेगा-
बौछारे की एक-एक बूँद के साथ
रंगीन छलियाँ गिरेंगी।
कहाँ हो तुम?

मैं तुम्हें बूँदों पर उड़ती
धारों पर चढ़ती-उतरती
झकोरों में दौड़ती, हाँफती,
उन असंख्य रंगीन मछलियों को दिखाना चाहता हूँ
जिन्हें मैंने अपने रोम-रोम की पुलक से आकार दिया है।

~सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

Hindi

'TUM'

Zard padi zameen pr barish ki pheli boond ho tum,
Barish ke mausam me chai ki piyali ki garmahat ho tum,
Chhatri pkde taro ke saaye me liye vaade ho tum,
14 more words

Run, Eat, Sing, Pray, Listen, Love

Whew! What a busy Saturday. If it felt like I was rushing from one thing to the next today… it was because I was! But, nevertheless, it was a great day! 1,169 more words

Religion

We saw the Aliens

So today we decided to be positive about being stationed in New Mexico. We decided to go out and explore. To make the best out of an unfortunate situation(this situation being in the middle of nowhere). 232 more words

Family

In a canyon thunder rumbles

The rumble of thunder echos off canyon walls. Looks like I have a storm brewing.


Looks worse than the light rain falling.

Nature