Tags » Ramdhari Singh 'Dinkar'

अनिवार्य है बिहार का नवोत्थान - Development of Bihar and the Politics

यूं तो ऐसा कोई दिन नहीं, जब बिहार से सम्बंधित खबरें राष्ट्रीय सुर्खियां न बनती हों. बात चाहें राजनीति की हो, गरीबी की हो, पलायन की हो, जर्जर सड़कों की हो या स्कूल की चारदीवारियों पर चढ़े नक़ल कराते लोगों की हो, बिहार हर रोज राष्ट्रीय परिदृश्य पर चर्चा में बना रहता है.

कलम आज उनकी जय बोल

जला अस्थियाँ बारी – बारी

छिटकाई जिनने चिनगारी

जो चढ़ गए पुण्य वेदी पर

लिए बिना गर्दन का मोल

कलम, आज उनकी जय बोल ।

जो अगणित लघु दीप हमारे

तूफानों में एक किनारे

जल – जल कर बुझ गए किसी दिन

मांगा नहीं स्नेह मुख खोल

कलम, आज उनकी जय बोल ।

पीकर जिनकी लाल शिखाऐं

उगल रही लू – लपट दिशाऐं

जिनके सिंहनाद से सहमी

धरती रही अभी तक डोल

कलम, आज उनकी जय बोल ।

अंधा चकाचौंध का मारा

क्या जाने इतिहास बिचारा

साखी हैं उसकी महिमा के

सूर्य, चन्द्र, भूगोल, खगोल

कलम, आज उनकी जय बोल ।।

  • रामधारी सिंह ” दिनकर “
Pragatiwadi Kavita

"दिनकर" का स्वर और शब्द का संगीत

आवाज का अपना आकर्षण होता है। कसी व्यक्ति के न रहने पर हम उसका अस्तित्व उसकी तस्वीरो में अनुभव करते है, मगर आवाज…. उसका आकर्षण फिर भी अलग ही होता है । आवाज अगर किसी परिचित व्यक्ति की हो, तो उसकी आवाज की परतें खुलने के साथ ही,उसके साथ बिताए गए सुखद स्मृतियों के अलबम की परतें भी एक- एक कर खुलने लग जाती है । जहाँ तक दिनकर जी का प्रश्न है, तो उनके बहुत से अग्रज प्रशंसकों के लिए, जो पिछले पीढ़ी से ताल्लुक रखते है, उनकी वाणी ही थाती है और और उनकी सुखद स्मृतियाँ ही उनकी धरोहर है । जिन लोगो ने इस कवि की कविता को स्वयं उसके मुख से सुना है, और जिन्होंने आज तक उनकी ओजमयी वाणी की स्मृतियाँ संजोकर रखी है, उन्हें ये प्रस्तुति पुराने समय में खींच लाएगी, और हम में से कईयों के लिए, जिन्होंने दिनकर जी को परस्पर नहीं देखा, ये उनके लिए एक अनुभव का काम करेगी ।

विविध

शक्ति और क्षमा

क्षमा, दया, तप, त्याग, मनोबल
सबका लिया सहारा
पर नर व्याघ सुयोधन तुमसे
कहो कहाँ कब हारा?
क्षमाशील हो रिपु-सक्षम
तुम हुये विनत जितना ही
दुष्ट कौरवों ने तुमको
कायर समझा उतना ही

अत्याचार सहन करने का
कुफल यही होता है
पौरुष का आतंक मनुज
कोमल होकर खोता है

क्षमा शोभती उस भुजंग को
जिसके पास गरल हो
उसका क्या जो दंतहीन
विषरहित विनीत सरल हो

तीन दिवस तक पंथ मांगते
रघुपति सिंधु किनारे
बैठे पढते रहे छन्द
अनुनय के प्यारे प्यारे

उत्तर में जब एक नाद भी
उठा नही सागर से
उठी अधीर धधक पौरुष की
आग राम के शर से

सिंधु देह धर त्राहि-त्राहि
करता आ गिरा शरण में
चरण पूज दासता गृहण की
बंधा मूढ़ बन्धन में

सच पूछो तो शर में ही
बसती है दीप्ति विनय की
संधिवचन सम्पूज्य उसी का
जिसमे शक्ति विजय की

सहनशीलता, क्षमा, दया को
तभी पूजता जग है
बल का दर्प चमकता उसके
पीछे जब जगमग है

~~~
रामधारी सिंह दिनकर

Poem

Asha ka deepak (आशा का दीपक)-Ramdhari singh dinkar

वह प्रदीप जो दीख रहा है झिलमिल दूर नहीं है;
थक कर बैठ गये क्या भाई मन्जिल दूर नहीं है।
चिन्गारी बन गयी लहू की बून्द गिरी जो पग से;
चमक रहे पीछे मुड़ देखो चरण-चिह्न जगमग से।
बाकी होश तभी तक, जब तक जलता तूर नहीं है;
थक कर बैठ गये क्या भाई मन्जिल दूर नहीं है।

अपनी हड्डी की मशाल से हृदय चीरते तम का;
सारी रात चले तुम दुख झेलते कुलिश का।
एक खेय है शेष, किसी विध पार उसे कर जाओ;
वह देखो, उस पार चमकता है मन्दिर प्रियतम का।
आकर इतना पास फिरे, वह सच्चा शूर नहीं है;
थककर बैठ गये क्या भाई! मंज़िल दूर नहीं है।

दिशा दीप्त हो उठी प्राप्त कर पुण्य-प्रकाश तुम्हारा;
लिखा जा चुका अनल-अक्षरों में इतिहास तुम्हारा।
जिस मिट्टी ने लहू पिया, वह फूल खिलाएगी ही;
अम्बर पर घन बन छाएगा ही उच्छ्वास तुम्हारा।
और अधिक ले जाँच, देवता इतना क्रूर नहीं है;
थककर बैठ गये क्या भाई! मंज़िल दूर नहीं है।

Ramdhari Singh Dinkar

Aag ki bheek (Ramdhari singh dinkar)

धुँधली हुईं दिशाएँ, छाने लगा कुहासा, 
कुचली हुई शिखा से आने लगा धुआँ-सा। 
कोई मुझे बता दे, क्या आज हो रहा है; 
मुँह को छिपा तिमिर में क्यों तेज रो रहा है?  9 more words

Ramdhari Singh Dinkar

रश्मिरथी

कवि: रामधारी सिंह ‘दिनकर’


जीवन के परम ध्येय सुख को, सारा समाज अपनाता है
देखना यही है, कौन वहां तक, किस प्रकार से जाता है|

है धर्म पहुंचना नहीं, धर्म तो जीवन भर चलने में है,
फैला कर पथ पर स्निग्ध ज्योति, दीपक समान जलने में है|

यदि कहें विजय, तो विजय प्राप्त हो जाती परतापी को भी,
सत्य ही पुत्र, दारा, धन, मिल जाते हैं पापी को भी|

हो इसे धर्म से प्रेम कभी, वो कुत्सित कर्म करेगा क्या?
बर्बर कराल, दंष्ट्री बन कर, मारेगा और मरेगा क्या?

पर हाय मनुज के भाग्य, अभी तक, खोटे के खोटे हैं,
हम बड़े बहुत बाहर, भीतर लेकिन छोटे के छोटे हैं|

साधन की मूल सिद्धि पर जब, टकटकी हमारी लगती है,
फिर विजय छोड़, भावना और कोई न युद्ध में जगती है|

जब लोभ सिद्धि का आँखों पर, माँडी बन कर छा जाता है,
तब वह मनुष्य से बड़े-बड़े, दुश्चित्य कृत्य करवाता है|

फिर क्या विस्मय, कौरव-पांडव भी नहीं धर्म के साथ रहे,
जो रंग युद्ध का है उससे, उनके भी अलग न हाथ रहे|

दोनों ने कालिख धूमी, शीश पर जय का तिलक लगाने को,
सत्पथ से दोनों डिगे, दौड़ कर विजय-विंद तक जाने को|