Tags » Revolution

Black Rose Anti-Criminalization - Fight the Charges!

Helped draft this #DefendJ20 Statement for the Anti-Criminalization Committee. We discuss the J20 trial and the need to build the resistance and build the movement. 67 more words

Rivera Sun’s The Roots of Resistance, reviewed by Guadamour

by Guadamour
Writer, Dandelion Salad
January 20, 2018

The Roots Of Resistance (Rising Sun Press 2017) is the second book in the Dandelion Insurrection trilogy by Rivera Sun. 825 more words

Politics

बदलाव

बदलाव सबको चाहिए,
पर बदलने को कोई तैयारनहीं,
क्यों बदले, क्या बदले, कैसे बदले,
इन सबके उत्तर सबको चाहिए,
पर कोई प्रश्न पूछने को भी तैयारनहीं;
क्योंकि एक प्रश्न उठा तो,
फिर होंगे प्रश्न पर प्रश्न,
प्रश्न पर प्रश्न,
और उत्तर, उत्तर सबका एक होगा
छोड़ो यार, कुछ नहीं हो सकता इस देश का।

चलो अमरीका, पेरिस,
कमाओ डॉलर और यूरो;
आओ वापस इसी देश में,
पहन के गुच्ची और बनके हीरो,
फिर चश्मा माथे पर चढ़ाकर बोलो,
छोड़ो यार! कुछ नहीं हो सकता इस देश का,
यहाँ गरीबी बहुत है।

और जो ना जा पाए तुम विदेश अगर,
तो पढ़ो खूब और करो नौकरी,
ताकि जब तोड़ो कोई सिग्नल तुम
और कटे चालान,
तो निकाल देना एक पाँच सौ का नोट अपनी भरी पॉकेट से
और पकड़ा देना जनता के नौकर को;
फिर सीना तान के बोलना,
छोड़ो यार! कुछ नहीं हो सकता इस देश का,
यहाँ भ्रष्टाचार बहुत है।

फिर लड़ना बराबरी के लिए,
लगाना नारे, बैठना अनशन पर,
मचाना शोर, कराना शांत,
और फिर जब वही सन्नाटा चुभने लगे तुमको,
तब कराना मुकाबला,
हिन्दू, मुस्लिम, सिख, इसाई का,
और जब सब हारजाएँ,
तो कराना दूसरा मुकाबला,
ईश्वर, अल्लाह और जीजस का,
और जो जीत जाये,
दे देना उसके हाथ में बंदूकें और तलवारें,
ताकि मार सके वो उनको जो हारे हैं,
और जब ढूँढने पर भी इस देश में शांति न मिले तो कह देना,
छोड़ो यार! कुछ नहीं हो सकता इस देश का,
यहाँ दंगे होते बहुत हैं।

कह दो, क्योंकि यहाँ किसी को,
फर्क नहीं पड़ता,
सब व्यस्त हैं अपनी निजी ज़िन्दगी बनाने में,
क्यों करे समय व्यर्थ कोई देश को सँवारने में?

सही कहा था तुमने,
छोड़ो यार! कुछ नहीं हो सकता इस देश का।

Image Courtesy: Google

Poetry

The Mutants are Revolting

An episode dense with material, the labor themes and ideological commentary mark this episode as the most “revolutionary” since the Mother’s Day episode during the original run. 991 more words

Sci-Fi

mirrors

life imitates love, they say. easy come, easy go.

pain is justice, and peace is rewarded.

the youth knows nothing; they haven’t seen it all. 76 more words

Poetry

Courthouses and corpses

This whole the future is female bs and fake women empowerment is ominous. It reminds me of the independence wave of colonies that curiously coincided with WW2 🤔 68 more words

Words

Poetry Love Revolution

A poem from the poet and love activist, Åsmund Seip. Whose work inspired and continues to inspire me.

From his book 100 Days for the Earth: 254 more words

Poetry