Tags » Save Girl Child

बहु-बेटियों की दर्द-कराह और नफरती चिंगारी

काल-कोठरी में जिओ से 1.5GB इंटरनेट के दमपर, कई कर रहे फुफकार हैं।

सोशल साइट्स पर अजीबोगरीब आज, मेरे देश का हाल-चाल हैं।

कैंडल लेकर निकल चुकी गैंग से, पुरस्कार वापसी का इंतजार हैं। 19 more words

वास्तविक विश्लेषण

बेटियों की मुस्कान,स्वस्थ समाज की पहचान

बेटियां सच में होती हैं अनमोल….

परिवार के प्यार के साथ जुड़ी होती है

उनकी खुशियों की डोर……

चहकना,फुदकना, खिलखिलाने के साथ

अपनी बातों को मनवाने के लिए

कभी रूठना कभी मनाना…..

ये सब होता है उनका जन्म सिद्ध अधिकार…..

फिर क्यूं दिखता है समाज बेटियों की उड़ान को

एक सीमित दायरे में बांधने के लिए तैयार……

समाज में चारो तरफ उथल पुथल दिखती…..

बदलते हुए समाज के साथ बेटियां अपने

विचारों के छांव में आगे बढ़ते हुए दिखती हैं……..

एक बेटी का समाज को बनाने में महत्वपूर्ण

योगदान होता है…..

नवजात शिशु के रूप में आज भी समाज में

सामान्यतौर पर बेटियों का जन्म लेना

आंखों को खटकता है……

सामाजिक ताने-बाने में बेटों की चाह में….

आज भी बेटियां मां की कोख में ही चिरनिद्रा

में सोती हैं…..

मां की कोख जैसी सबसे सुरक्षित जगह में भी

असुरक्षित होती हैं……

आश्चर्य के साथ समाज की नींव

तब डगमगाने लगती है…..

जब महिलाएं ही बेटों की चाह में नवजीवन की

सांसों की डोर को तोड़ते हुए दिखती हैं…..

होता होगा क्या मां के मन में बेटियों की सुरक्षा का सवाल?

या होता होगा दान दहेज जैसी चीजों को न इकट्ठा कर पाने का मलाल?

समाज आज लड़के और लड़कियों के बीच में

असंतुलन से झूल रहा….

कन्या भ्रूण हत्या का बाजार फल और फूल रहा….

बेटियों की प्यार और ममता का कोई मोल नही होता….

मां और पिता को परेशान देख उनका मन भी व्यथित होता…..

प्यार और कोमलता के साथ पाली पोसी गई बेटियां

समाज में परिवर्तन ला सकती हैं…..

तमाम तरह की कुरीतियों को समूल उखाड़ सकती हैं….

इस हकीकत को जानते हुए भी समाज क्यूं अनदेखा करता है……

बेटे और बेटियों के पालन पोषण में क्यूं भेदभाव करता है……

जीवन में बेटी का साथ होना एक सुखद एहसास से भरता है….

उनकी मीठी सी मुस्कान और कोमल एहसास जीवन में ऊर्जा भरता है…..

जरूरत हमेशा उनको आत्म विश्वास के साथ

सबल बनाने की होती है……

जीवन की आपाधापी में भागते हुए समाज का

पुरुष वर्ग हो या महिलाएं

सभी को अपना अपना उत्तरदायित्व निभाना होगा…,

तभी शायद हर घर में बेटियों की चहचहाहट और

खिलखिलाहट के साथ….

समाज की नींव की मजबूती का नया दौर शुरू होगा……

(सभी चित्र इन्टरनेट से)

Mai aur meri Jindgi.......

Meri kahani meri jubani

Hello friends,

Mai hu anju aur hum bat karenge girl child’s ke bareme. Sunte hai unki kahani unki jubani…..

Mai jab duniya me aai tab kisiki beti bani. 322 more words

Relationships

A Butterfly

Butterflies are beautiful creatures with colorful wings, let them be free and make her own skies. Do not try to touch or catch them, they’ll loose their colors, and the rainbow will be all black. 861 more words

Save HER!

“An eight-month-old infant was raped by her 28-year-old cousin in Shakurbasti, northwest Delhi, on Sunday.Police said the child had suffered severe injuries to her vital organs and was on ventilator support at Kalawati Saran Hospital.

258 more words

Now or Never

Few days back, we celebrated the festival of light ‘Diwali’, this festival wears a lovely look.

Everyone is well clad gay and mirthful some celebrate it in the most enthusiastic. 155 more words

Svetlana Fernandes

A girl 

Hey guyzz ! I know we live in an advanced world now , but this social evil still exists between us. This has always been a very common issue to all of us and I am not going to say anything less than what we hear everyday. 554 more words