Tags » Shashikala

മോഹന്‍ലാല്‍ ചിത്രത്തിന് ഭീഷണിയുമായി ശശികല; സിനിമ മഹാഭാരതം എന്ന പേരിലെത്തിയാല്‍ തിയേറ്റര്‍ ബാക്കി കാണില്ല

കുന്നംകുളം : എം ടി വാസുദേവന്‍നായരുടെ രണ്ടാമൂഴം ‘മഹാഭാരതം’ എന്ന പേരില്‍ സിനിമയാക്കുന്നതിനെതിരെ ഭീഷണിയുമായി ഹിന്ദു ഐക്യവേദി സംസ്ഥാന അധ്യക്ഷ കെ പി ശശികല. മഹാഭാരതം എന്ന പേരില്‍ സിനിമ പ്രദര്‍ശിപ്പിക്കാന്‍ അനുവദിക്കില്ലെന്നും പ്രദര്‍ശിപ്പിച്ചാല്‍ ആ തിയേറ്റര്‍ കാണില്ലെന്നുമാണ് ശശികലയുടെ ഭീഷണി.

‘രണ്ടാമൂഴം എന്ന പേരില്‍ സിനിമ ഇറക്കിയാല്‍ മതി. എത്ര ഊഴം വേണമെങ്കിലും വന്നു കാണാം. അതല്ല, മഹാഭാരതം എന്ന പേരില്‍ സിനിമ ഇറക്കിയാല്‍ ആ സിനിമ തീയേറ്റര്‍ കാണില്ല. മഹാഭാരത ചരിത്രത്തെ തലകീഴായി വച്ചതാണ് രണ്ടാമൂഴം. വിശ്വാസവുമായി ബന്ധപ്പെട്ടതാണ് മഹാഭാരതം. യഥാര്‍ത്ഥ്യത്തെ വികലമാക്കുന്ന സൃഷ്ടിക്ക് അതേ പേര് പറ്റില്ല.’ശശികല പറഞ്ഞു.

വേദവ്യാസനെന്ന എഴുത്തുകാരനും തന്റേതായ അവകാശമുണ്ട്. എംടിക്കുള്ള അവകാശവും ആവിഷ്‌കാരസ്വാതന്ത്ര്യവും വ്യാസനുമുണ്ട്. സ്വന്തം കഥയെയും കഥാപാത്രങ്ങളെയും അതുപോലെ നിലനിര്‍ത്താന്‍ വ്യാസനും അവകാശമുണ്ടെന്ന് ശശികല കുന്നംകുളത്ത് പറഞ്ഞു.

എംടി വാസുദേവന്‍ നായരുടെ രചനയിലുള്ള രണ്ടാമൂഴം ആണ് സിനിമയാക്കുന്നത്. വിഎ ശ്രീകുമാര്‍ മേനോനാണ് സംവിധാനം. ഭീമസേനനായാണ് മോഹന്‍ലാല്‍ എത്തുന്നത്. 1000 കോടി മുതല്‍മുടക്കില്‍ ബിആര്‍ ഷെട്ടിയാണ് നിര്‍മാണം. സിനിമയുടെ പ്രീപ്രൊഡക്ഷൻ പരിപാടികള്‍ തുടങ്ങിക്കഴിഞ്ഞു.

Kerala

If only I were the director of this movie !

With sincere thanks to my friend Suketu who inspired me to write a review of Bollywood movie – Rakht which was released in 2004, the first thing that I am willing to say is that I wish I were the director of this movie. 1,040 more words

Movie Review

Sasikala convicted LIVE: Chinnamma reaches Bengaluru's Parappana Agrahara jail to surrender

Sasikala surrenders

Sasikala surrendered in Bengaluru’s Parappana Agrahara jail on Wednesday. According to some reports, clashes erupted between two AIADMK factions outside the jail. Two Tamil Nadu cars were vandalised in Bengaluru.

Shashikala

वेलेंटाइंस डे और गिरफ्तारियां

श्रीकांत सिंह

वेलेंटाइंस डे और गिरफ्तारियां। इनमें कोई न कोई संबंध जरूर है। तभी तो फिल्‍मी गीत लिखा गया था-कैद मांगी थी रिहाई तो नहीं मांगी थी…जी हां। इस मुबारक मौके पर दो गिरफ्तारियों की चर्चा आम है। आय से अधिक संपत्ति रखने के आरोप में शशिकला नटराजन उर्फ चिनम्‍मा गिरफ्तारी की चौखट पर पहुंच गई हैं तो एक्जिट पोल प्रकाशित करने के आरोप में जागरण डॉट कॉम के संपादक शशांक शेखर त्रिपाठी गिरफ्तार कर लिए गए हैं।

शेखर की गिरफ्तारी के संदर्भ में जागरण की ओर से कहा गया है- ‘डिजिटल इंग्लिश प्लेटफॉर्म के अलावा एग्जिट पोल से संबंधित खबर दैनिक जागरण अखबार में नहीं छापी गई। इंग्लिश वेबसाइट पर एग्जिट पोल से जुड़ी एक खबर अनजाने में डाली गयी थी,  इस भूल को फौरन सुधार लिया गया और संज्ञान में आते ही वरिष्ठ अधिकारियों की तरफ से संबंधित न्यूज रिपोर्ट को तुरंत हटा दिया गया था।’ सवाल यह है कि जागरण की ओर से अनजाने में कितने अपराध किए जाएंगे…माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवमानना क्‍या जागरण प्रबंधन अनजाने में कर रहा है…सैकड़ों कर्मचारियों को एक झटके में क्‍या अनजाने में संस्‍थान से बाहर कर दिया गया…एनआरएचएम घोटाले में जागरण की संलिप्‍तता क्‍या अनजाने में हुई…जागरण की जम्‍मू यूनिट में क्‍या मादक द्रव्‍यों की तस्‍करी अनजाने में कराई जा रही थी।

जागरण के अपराधों की लिस्‍ट बड़ी लंबी है, लेकिन पहली गिरफ्तारी भले ही शशांक शेखर के साथ साजिश का एक नजीजा हो, लेकिन इससे मजीठिया वेजबोर्ड की सिफारिशें लागू कराने के लिए संघर्षरत कर्मचारी उत्‍साहित हो सकते हैं। बताया जा रहा है कि पुलिस दैनिक जागरण के प्रधान संपादक व मालिक संजय गुप्‍ता के घर भी पहुंची थी, लेकिन वह मौके पर नहीं मिले। 23 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट में मजीठिया अवमानना मामले की सुनवाई है। इस बार सुनवाई से पहले ही जागरण के बुरे दिन शुरू हो गए हैं। आपको याद होगा कि दुखी कर्मचारियों ने जागरण प्रबंधन और उसका साथ देने वाले पीएम नरेंद्र मोदी को बददुआ दी थी कि उनका हर कदम उलटा पड़े और वे असफलता के गर्त में गिर जाएं। उसका असर धीरे-धीरे दिखने लगा है। बददुआ के ठीक बाद पीएम मोदी मैन ऑफ टाइम मैगजीन बनते बनते रह गए और चुनाव में उनकी नोटबंदी की साजिश नाकाम साबित हुई। चुनाव प्रभावित कराने का कलंक जो लगा सो अलग। आज नोटबंदी पर उठ रहे सवालों का एक भी जवाब केंद्र सरकार की ओर से नहीं आया है।

शशिकला नटराजन की गिरफ्तारी के मामले से साजिश की बू आ रही है, क्‍योंकि भाजपा पन्‍नीर सेल्‍वम के सहारे तमिलनाडु की राजनीति में अपना प्रभाव जमाना चाहती है, लेकिन पन्‍नीर सेल्‍वम को एआईडीएमके से हटा दिया गया है। अब मामला तमिलनाडु के राज्‍यपाल और एआईडीएमके के समर्थन पर फंसा है। पन्‍नीर सेल्‍वम यदि समर्थन के अभाव में किनारे लग जाते हैं तो यहां भी भाजपा को बड़ा झटका लगना तय माना जा रहा है। बची खुची कसर विधानसभा चुनाव के परिणाम पूरी कर सकते हैं। ये तो इंतहाए राजनीति है, रोता है क्‍या। आगे आगे देखिए होता है क्‍या।

Country

Dil gaya dard rahaa seene mein

This article is meant to be posted in atulsongaday.me. If this article appears in sites like lyricstrans.com and ibollywoodsongs.com etc then it is piracy of the copyright content of atulsongaday.me and is a punishable offence under the existing laws. 386 more words

Yearwise Breakup Of Songs

Desh ki purkaif rangeen si fizaaon mein kahin

This article is meant to be posted in atulsongaday.me. If this article appears in sites like lyricstrans.com and ibollywoodsongs.com etc then it is piracy of the copyright content of atulsongaday.me and is a punishable offence under the existing laws. 470 more words

Yearwise Breakup Of Songs