Tags » Shyam

मेरे तन में बसे हैं राम


मेरे तन में बसे हैं राम

मेरे मन में बसे हैं राम

मेरे प्राण में बसे हैं राम

मेरा त्राण करेंगे राम

राम राम राम राम – २ |

हर पल में बसे हैं राम

हर प्राणी में बसे हैं राम

रोम रोम में बसे हैं राम

कण कण में बसे हैं राम

राम राम राम राम – २ |

र से राम , श से श्याम

राम श्याम दोनों घनश्याम

दो हैं नाम पर एक ही प्राण

परमपिता और परमधाम

राम राम राम राम – २ |

एक धनुर्धर एक चक्रधारी

भक्तों की दोनों पीड़ा हैं तारी

मानव तन में दोनों अवतारी

संकटमोचक और भवभयहारी

राम राम राम राम – २ |

एक मर्यादित पुरुषों में उत्तम

एक है बिहंगम देवकीनन्दन

रावण मर्दन कंस निकंदन

नीलाम्बुज और मुनि मन रंजन

राम राम राम राम – २ |

चन्दन अधिकारी

मार्च १२, २०१६

Mere Bhagwaan tu mujhko yoon hi barbaad rehne de

This article is meant to be posted in atulsongaday.me. If this article appears in sites like lyricstrans.com and ibollywoodsongs.com etc then it is piracy of the copyright content of atulsongaday.me and is a punishable offence under the existing laws. 230 more words

Yearwise Breakup Of Songs

Happy winters-You may avail a discount for your Hair Transplant this season

Happy winters – You may avail a discount for your Hair Transplant this season.

Kindly rush and book an appointment without wasting anymore time and this season could bring you a new charm on your face by giving back your own hairs on your bald region. 13 more words

samkalp mess

संकल्प मेस के हमारे सहयोगी इस प्रकार हैं …

1.कृष्णाकुमार

2.स्नेहल वाघमोडे

3.अभिषेक

4.शुभम

5.धीरज चौधरी

6.अंजनी

7.रवि यादव

8.गौरव शर्मा

9.धर्मेन्द्र शर्मा

10.संदीप

11.जीवन

12.गौरव जी

13.स्वदेश

14.फेला

15.प्रदीप

16.निशांत

17.कुसुम

18.सहिन्द्र

19.प्रीति शर्मा

Samkalp

मेरे कृष्ण, मेरे श्याम

 

मेरे कृष्ण, मेरे श्याम,

चले आओ मेरी बहियन में

बहियन में, बहियन में,

चले आओ मेरी बहियन में/,

तुमको निहारों मेरे श्याम

अंखियन में, अपनी अखियन में

चले आओ मेरे श्याम,

अंखियन में अपनी अखियन में/

बहियन बिठाये, अंखियन निहारे

चले आओ मेरे श्याम

मेरे अन्तस्तल में

अन्तस्तल में, निर्मल मन में /

चले आओ मेरे श्याम

मेरे रोम रोम में,

रोम रोम में, श्वास श्वास में

शब्द, रूप और हर प्राण में/

चन्दन अधिकारी

सितम्बर २०, २०१५

Bhajan

तनहा...Tanhaa...

Loneliness…a very lonely emotion !

तनहा…feeling alone…just like the bright sun uplifts mind , body and soul but is still lonely…like the moon alone in the night travelling across the starlit sky…my tears on parting of the beloved are also lonely…and the sad smile on his remembrance is also lonely…

Hindi