Tags » Song

❤ दिल से।

वो जो कहते है न कि हमे भी महोबत हो जाती कभी जो उनसे।

फ़क़त सवाल एक इक़रार ए इश्क़ से है आज भी हमे जो उनसे।।

वो जो चुरा कर निकल जाते है न निगाहें बगल से सरेराह जो हमसे कहि।

अक्स महोबत का है अब भी कायम हममें, ये यकीं दर्द धड़कनों के टूटने से है।।
विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

(Republish at vikrantrajliwal.com)

Poetry

You Know That

You know You know
You know that

To you

Confirmation
I’d like to

To you

A story to tell
It’s nothing

A-ha-ha A-ha-ha
A-ha-ha A-ha… 20 more words

Poetry

Our picks for Melbourne’s best DJ’s and live bands

Music is an important element to consider when organising an event as it has the potential to make or break the whole event. When choosing the artist that will play at your event it is important to consider the audience attending, the age, genre and taste. 251 more words

🌹 एक अधूरा फ़साना।

एक चीख सुनाई देती है आज भी अनजाने मुसाफ़िर मुझे।

ये रुकी सांसे ये ठहरी ज़िन्दगी ये एहसास ए जुदाई,
मेरे ख़ुद के नही।।

खो गए है जो एहसास न वो मेरे थे और कॉयम है जो
एहसास अभी टूटी धड़कनो में मेरे न ही ये मेरे है।

हम मिले के नही एक दूजे से एहसास बिछुड़ने से है यकीं,
न वो हमसे मीले थे और न ही हम उनसे कभी जो मिले थे।।

 विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

(Republish at vikrantrajliwal.com)

Poetry