Tags » Strength

मैं बस यूँही चलता रहा !

दिन बने महीने, महीने बने साल,
नाकामीयाबियों से सीख ली, कभी न किया मलाल !
कामियाबी का जूनून हमेशा सर चढ़ कर है बोला,
मेहनत की कुंजी से ही हर बार सफलता का ताला है खोला !

हर परेशानियों का सामना डट कर करता रहा,
मैं बस यूँही चलता रहा !!!!

न जन्मदिन याद रहा, न याद रही दिवाली,
यश के खातिर दिन रात एक कर डाली !
बदकिस्मती के साये में हर वक़्त यही है बोला,
सफलता दे हे भगवान्, बरकत दे ऐ मेरे मौला !

हर विघ्न को दर किनार कर बढ़ता रहा,
मैं बस यूँही चलता रहा !!!!

न जाने कहाँ से सिर्फ अच्छा करने की दीवानगी छायी है,
हौसला है पहाड़ों जैसा, हताशा बस एक राइ है !
उत्साह की मशाल लेकर हमेशा हूँ चला ,
परिस्तिथियों के मुताबिक हर आकर में हूँ ढला !

बड़ी से बड़ी मुश्किलों को नतमस्तक होने पे मजबूर करता रहा,
मैं बस यूँही चलता रहा !!!!

n is for nebula (and my dear friend who embodies one beautifully so)

breathe deeply and wait for the soft voice of the universe

to whisper in a delicate hum

the song of my apology.

i am sorry that all you know… 326 more words

Don't Give Up

DON’T GIVE UP

Life can be tough, but don’t ever forget that it’s through tough times we gain strength, courage and endurance to go on. 95 more words

TLT:Innocence and Strength

Bambi, so innocent, beware of the hidden strength and stay away
One fine morning when chased, Bambi ran away and jumped the road
New car crashed, we survived to tell the tale, learnt it the hard way… 7 more words

Poetry