Tags » Sufi

Nature | şems...

LG G4 Rated as the Best Camera Phone for Pictures @ Searchy.One Search

Description From Photographer if Any:

“Kainattatki her zerrede Allah’ın sıfatlarını bulabilirsin, çünkü O camide, mescitte, kilisede, havrada değil, her an her yerdedir. 105 more words

Nature

Snippet 9 


Those who turn toward their own heart may enter the world of spiritual qualities, and they may find there the source of every quality that they projected onto the outer world. 14 more words

Poem

Renungan Sufi: Melakukan Persembahan atau Berdagang dengan Tuhan? Shalat atau Doa?

Petani Tua

Cerita ini sangat populer di kalangan Qadiriyah:

Seorang petani anggur yang sudah tua renta sedang menyirami kebunnya. Khalifah negeri itu, yang kebetulan sedang lewat, menghampirinya, “Tahukah Bapak, jenis anggur yang Bapak tanam ini adalah jenis yang khas dan tidak akan berbuah sebelum 3-4 tahun.” 623 more words

Anand Krishna

Tonight | Rumi

Tonight is a night of union for the stars and of scattering,
scattering, since a bride is coming from the skies, consisting of a full moon. 197 more words

Poetry

O Sun | Rumi

O SUN, fill our house once more with light!
Make happy all your friends and blind your foes!
Rise from behind the hill, transform the stones… 57 more words

Poetry

Passing by Yourself

Salaam and Greetings of Peace:

“Men go abroad to wonder at the heights of mountains, at the huge waves of the sea, at the long courses of the rivers, at the vast compass of the ocean, at the circular motions of the stars, and they pass by themselves without wondering.”

– St. Augustine

Ya Haqq!

Spirituality & Religion

मैं और आइना

आईने में खुद को देखूँ तो, दो दो इंसान नज़र आते हैं।
दोनों ही एक दूजे से, बिलकुल अंजान नज़र आते है।
आईने में खुद को देखूँ तो, दो दो इंसान नज़र आते हैं।

एक दिखता कुछ आवारा सा, दूजा लगता बेचारा सा
एक हरदम ही खुश रहता है, और दूजा गुमसुम रहता है
एक कहे मोहब्बत चीज़ बुरी, पर दूजा खुदा समझाता है
एक कहे झुकाना सर तू कहीं, पर दूजा झुका ही रहता है
आईने में खुद को देखूँ तो, दो दो इंसान नज़र आते हैं।

पर कुछ बातें ऐसी भी हैं, जो दोनों को अच्छी लगती
और ये बातें इन दोनों को, एक दोस्त बनाये हैं रखती
दोनों चाहे कुछ भी करते, पर दिल दूजा ना दुखाते हैं
अपने वादे पूरे करते, दुश्मन को भी दोस्त बनाते है
आईने में खुद को देखूँ तो, दो दो इंसान नज़र आते हैं।

विकाश यादव

Sufi