Tags » Two-liners

इरशाद- 25

” डूब जाए शमा चरागों को हँसाने की जुस्तुजू में ,
रात भर इसी सिलसिले में बस परवाने फ़िदा होते रहे। “

– सहर

Maybe drugs are lonelier than the people doing them.
All those fans and not one real friend.

Two Liners

इरशाद- 24 

“Wo shaksha jis se main chahta tha milna
Andheron mein gum baitha tha meri parchayee mein.”
– sahar

“वो शख्स जिस से मैं चाहता था मिलना,
अंघेरों में गुम बैठा था मेरी परछायी में।”

– सहर

ছোট্ট (৮ সেপ্টেম্বর, ২০১৬)

পরের জীবন জটিল করে নিজের খুশি খুঁজি।
এই হয়েছে রাতের রুটি, দিনের আলোর রুজি।

Love

इरशाद-20

” न मैं हिन्दू हूँ और न तू है मुसलमान,
अब न जले तेरा घर, न झुलसे मेरा मकान,
आओ पढ़ें चैन-ओ-अमन की किताब,
मैं जला दूँगा अपनी गीता, तुम जला दो अपनी क़ुरान।”
– सहर