Tags » Whole Story

Half empty or half full?

In the last seven days life has been full of choices – to see my glass as half empty or half full.

Truth is, a culmination of various events put me in a ‘what next’ frame of mind. 341 more words

अगर नाख़ून पर है ऐसा निशान तो आप में भी है यह खास बात, पढ़े पूरी ख़बर

Google Content

हमारे शरीर पर ऐसे बहुत सारे निशान होते हैं, जिनका एक खास महत्व या अर्थ होता है। इनमें से कुछ निशानों का उपयोग भविष्य का अनुमान लगाने में किया जाता है या फिर यूं कहें कि यह निशान हमें भविष्य की जानकारी देते हैं। आज हम आपको नाखून पर बनने वाले आधे चांद के निशान का मतलब बताएंगे और साथ में यह भी बताएंगे कि यह हमें क्या संकेत देता है।

  • अगर आप अपने हाथ के नाखूनों पर ध्यान से देखें तो उनके निचले हिस्से पर एक आधे चांद जैसी आकृति बनी होती है, जिसका रंग सफेद होता है। यह सफेद रंग का निशान आपके स्वास्थ्य का राज खोलता है। इस सफेद निशान को लेटिन भाषा में ‘लूनाल’ कहां जाता है और हिंदी भाषा में इसे ‘छोटा चांद’ कहते हैं।
  • चीन के एक स्वास्थ्य समुदाय का यह मानना है कि यह किसी भी व्यक्ति के स्वास्थ्य को मापने का एक बैरोमीटर होता है। सफेद निशान अथवा लूनाल की स्थिति से स्वास्थ्य की जानकारी मिलती है। जब किसी व्यक्ति का स्वास्थ्य सही नहीं होता है, तो यह लूनाल हाथ के नाखून से गायब जाते हैं और स्वास्थ्य सही होने के बाद यह पुनः अपनी जगह लौट आते हैं।
  • ऐसा माना जाता है कि अगर आपकी 10 उंगलियों में से 8 उंगलियों के नाखूनों पर यह लूनाल है, तो आपका स्वास्थ्य बहुत ही अच्छा है। आपको किसी भी प्रकार की चिंता करने की जरूरत नहीं होगी।
  • अगर आपके नाखून से यह सफेद रंग का निशान गायब हो रहा है, तो आपके शरीर में आयरन की कमी हो सकती है या फिर थायराइड की भी प्रॉब्लम हो सकती है। ऐसा होने पर आप चिकित्सक से परामर्श कर सकते हैं।
Lifestyle

The Rest of the Story

Bloggity Peeps…

I added another page to this here blog.

And my reasons for this are two-fold.

  1. I get a lot of questions about why and how I became Catholic.
  2. 140 more words
Faith

Loving Her, Halfway

Loving her,
completely, never seemed
to work

Relationships not
being easy, but less
than that might not always
suffice

My proposal
offered a halfway
solution, but not being… 26 more words

Prose

Shepherding Women...

I walked up the stairs this Wednesday afternoon at the shelter slower than normal. Maybe it was the heart burden of weekend shelter-happenings, maybe it was the four hours straight of one-on-ones this morning (poor planning), maybe it was the weather, maybe it was something I ate earlier… 629 more words

Sacred Chaos

(This was written in reflection after some severe cold in Whatcom County)

There I stood in the lobby of the main shelter building, awaiting a meeting with a staff person, Robbie, overseeing Men’s Ministries.  1,259 more words

A Welcome Letter

Dear reader, new or frequent visitor, fellow listener-of-whole-stories, co-laborer, and Kingdom-seeker,

Thank you.  Thank you for taking the time to read one of these wandering blog posts.   404 more words